शिकायत

अफवाहों का जो इतना एहतराम है,
की खामोशियों से मुजरिम करार देती हो
शिकवे गीले सब छोड़ दिए तुमने
हसती जो अब संजीदगी से हो.

©ikbenmanisha

Advertisements