Equity

Equity

 

So delicate yet not fragile,

let desires be the tools to dream ahead.

The world of sanity, and integrity to all.

Of the dreams of millions, my eyes ain’t alone.

For once stop accusations, complaints, and grievance,

agree upon what needed to be done,

let bygones be bygones, be equity a new trend.

 

©ikbenmanisha

Picture source: edfunders.org

 

 

 

Advertisements

शिकायत

अफवाहों का जो इतना एहतराम है,
की खामोशियों से मुजरिम करार देती हो
शिकवे गीले सब छोड़ दिए तुमने
हसती जो अब संजीदगी से हो.

©ikbenmanisha

पूछो तो सही


ये जो कहते हैं, कुछ भी कहते हैं.
दिल टूटा नहीं तो क्या हम शायर नहीं?
अरे नज़म की पहचान हमे भी है और यूँ ख़ुशमिज़ाजी में करते हैं शायरी.

अच्छा अब ज़िक्र छेड़ा ही है तुमने तो दास्ताने बयान सुना देते हैं.
इंसानो में जो गलतफमियां और अल्फाज़ो में अपनापन है
ये ज़बान की कश्मकश है वरना बोलियां भी आती हैं.

ये नज़ाकत रुहनियाँ उर्दू की है ज़बानी,
किलकारियां, अल्हड़पन हिंदी ने है सिखाई.
हम अल्फाज़ो के असहाब हैं और दिल शायर का रखते हैं.

©ikbenmanisha