House of Flames

Life which you declared a mess

was founded on hurricanes.

No windows on walls

nor shades of colour.

A square room without decorations,

gave up on escape an entity lived in.

Till words forced in co occupying the space,

burnt the building,

Made house of flames.

कहानी

कहानियां सीखी हैं मुंशी प्रेम चाँद की कितबाओं से
और फिर कविताओं का स्वाद लगा राम धरी सिंह दिनकर से
महादेवी वर्मा ने समझाया ये शब्द कितने समर्थ हैं
यही बैठे बैठे १९वी सदी की सुबह दिखा दी
या जैसे बदल धूप में गरजा दिए
शब्द नहीं मोती से हैं कहा अमृता प्रीतम ने
पिर के कहानी बन जाते हैं ऐसा सोचा मैंने
फिर अपरिचितों से परिचय करते हैं

कहना सुनना

कुछ ढेर सारा कहने और बहुत कुछ न सुनने में
बड़े हो गए
संजीदगी पहरे लगाती है शब्दों पर तो
मोल भाव करना आदत में आ गया
थोड़ा थोड़ा कहके अब सुन भी लेते हैं
छेड़ने पे ज़िक्र पुरानी किताबों का गुलाब का वो पन्ना दिखा भी देते हैं

Curtain

Place I grew up,

curtain served as barrier between territories.

Drew a wall,

of which the powerful midst all,

held the drape.

Curtain divided spaces into rooms,

in quest to accommodate families.

Curtain had responsibility.

Curtains are shiny,

are accessories, to fit the sphere

at the place I grow now.

Curtain acquires a taste,

every room its own here.

Curtain too depicts mood and characters,

from place to place.

Grass & Hopper

Dew drops on grass field not necessarily

feed the roots.

Brings a shine on velvety surface,

tip toeing on damped soil,

glowing green dances with breeze.

No wreck capable to shrink,

while lush waves hugs the hopper,

in gratitude of days together,

silent seal of seeing each-other.